Real Story (Ek Galti)


एक बार कुछ विद्यार्थी रसायन विज्ञानं प्रयोगशाला में कुछ प्रयोग कर रहे थे. सभी विद्यार्थी अपने अपने प्रयोगों में व्यस्त थे कि अचानक एक लड़के की परखनली से तेज बुलबुला उठा और उसकी छिट्कियाँ सामने प्रयोग कर रही लड़की की आँखों में चला गया.

पूरी प्रयोगशाला में हाहाकार मच गया, सभी खूब परेशांन हुए, आनन फानन में उस लड़की को अस्पताल पहुँचाया गया, वहाँ डाक्टरों ने बताया कि वो अपनी आँखें खो चुकी है. ये सुन कर उस लड़की के घर वालों ने उस लड़के को कोसना शुरू कर दिया और स्कूल वालों ने उस लड़के को स्कूल से निकाल दिया.

अब वो अंधी लड़की अपनी नीरस ज़िन्दगी बिता रही थी, जो शायद किसी की लापरवाही की वजह से वीरान सी हो गयी थी, अब उस लड़की की ज़िन्दगी में कोई भी रंग कोई मायने नहीं रखता था. घर वाले भी वक़्त बेवक्त उस लड़के को कोसते रहते थे जिसने उनकी लड़की की ज़िन्दगी खराब कर दी थी. आज कल के ज़माने में तो किसी के सामने हूर परी भी बैठा दो तो भी लड़के वालों को उससे भी ज्यादा खूबसूरत चाहिए होती है. फिर उस बिचारी की वीरान ज़िन्दगी में रंग भरने की बात सोच पाना भी असंभव सा था. खैर वक़्त बीतता गया और उस लड़की को उस वीराने की आदत हो गयी. क्योंकि अब उसकी ज़िन्दगी में कही से भी उजाला आने...

की कोई गुंजाइश नहीं थी.

अचानक एक दिन एक बड़े इंजीनियर का रिश्ता उस अंधी लड़की के घर आया. यही नहीं लड़का खुद उसके घरवालों से उसका हाथ मांगने अपने माँ बाप के साथ आया था. घर वाले मन ही मन बहुत खुश हो रहे थे कि बैठे बिठाये उन्हें अपनी अंधी लड़की के लिए लड़का मिल गया लेकिन लड़की इस बात से काफी दुखी थी. शायद इसलिए कि वो किसी की ज़िन्दगी खराब नहीं करना चाहती थी. इसलिए उसने लड़के को अन्दर बुलाया और बोली कि मैं अंधी हूँ आपके घर का कोई काम मैं नहीं कर पाउंगी, आपको मुझसे कोई सुख नहीं मिल पायेगा, आप एक इंजीनियर हैं इसलिये आपको तो एक से बढ़कर एक लड़कियां मिल जायेंगी. आप प्लीज़ अपनी ज़िन्दगी खराब मत कीजिये. इस पर वो लड़का आगे बढ़ा और घुटनों के बल बैठकर लड़की का हाथ पकड़कर बोला :

प्लीज़ तुम इस शादी के लिए हाँ कहके मुझे मेरा प्रायश्चित कर लेने दो, मैं वही हूँ जिसने तुम्हारी ज़िन्दगी वीरान की है और आज मैं प्रायश्चित करना चाहता हूँ. प्लीज़ मना मत करना. ये सुन कर वो लड़की रोने लगती है, ये सोच कर नहीं कि उसकी ज़िन्दगी खराब करने वाला उससे शादी करना चाहता है. बल्कि ये सोच कर कि इस दुनिया में ऐसे लोग भी है जो अपनी गलती को स्वीकारना जानते हैं ।।

Submitted By:- Akash

Leave A Comment!

(required)

(required)


Comment moderation is enabled. Your comment may take some time to appear.

Comments

23 Responses

  1. naina thakur

    Kya fir tum logo ki sadi ho gai

  2. ashwini dhekane

    Very nice story i love it story aaj ke jamane bhi yese log hona bahut kam hai. Aaj kal koi ithna kisi ke liye bhi nahi krta
    Lovely story

  3. Gyanendra Kumar

    Mai yha par nya ho

  4. jiya khan

    Arey mere aane se dusri jiya b agyi rohan bro hehe
    vnd bhai mere phn mw b bhai stories zyada nhi chlti

  5. indradev Arya

    Good morning

  6. jiya khan 1

    Hello every one

  7. Yakub

    nice

  8. Rohan...!

    its oky jiya …………….chalo kamse kamm tum to aayi ab sablog ajayenge vinod bhai b aagaye hainnnnnnn

  9. vinod

    Jiya ye site mere mbl me thik se nhi chalti h
    To mai kam ata hu

  10. anshu

    Dp tum aati q nhi ho

  11. jiya khan

    Vnd bhai miss uhh bhai me zyada fb use nhi karti but site pe ap aana bhai yahan bt karenge
    rohan bro me b apko bht bht miss karti hun
    Sab kahan hoo dostow ajaoo

  12. Priyanka

    Nic …..

  13. vinod ald

    Jiya pagli

  14. Neeraj kushwaha

    Not bad

  15. Anamika

    Oh wow aapne bahot achha kiya to kya aapne unse shadi ki??

  16. Roh@n....🌹

    Jiya chalo apne san
    B dostonko bulate hainnn

  17. sourav

    nice

  18. Naina

    Bahut achha hua.Jo aap ki itni badi life barbaad nahi Hui.

  19. Roh@n....🌹

    Dekho jiya issey pehle main bohat bohat kamm aata tha us time lov sab mouzud rehte the par . Jab waqt aisa aaya hai k main hamesha aaraha hu par yahpar koi nhi hai. But really miss u jiya

  20. jiya khan

    Rohan bro ap kese h?
    Kahan chale gye the ap bich me q nhi aate the me apko miss krti thi mere bhai

  21. jiya khan

    Rohan bro busy thi ap kese h

  22. Rahul 9781235559

    Nice story

  23. Jamir

    Kiya ladki boy ko samajh sakta hai

Like us!